क्या मुख्यालय के संरक्षण में बेलगाम हो रही सीपीयू?

0
44

राजीव चावला। लोकजन टुडे। ऊधमसिंह नगर।

ऊधमसिंह नगर। प्रदेश शुरुआती दौर से ही सीपीयू और विवादों का चोली दामन का साथ रहा है। यही कारण है कि सीपीयू यातायात का पाठ पढ़ाते पढ़ाते मानवता भूल जाती है।
जिसकी आये दिन घटित वीडियो या कहानी किस्से अखबार और टीवी की सुर्खियां बनते है।

यातायात नियमो का पाठ कैसे पढ़ाते है इसका एक वीडियो कल सितारगंज से वायरल हुआ था
जिसमें वाहन चेकिंग करने के दौरान हादसा होते होते बच गया।
इस खबर को “लोकजन टुडे” ने प्रमुखता से दिखाया और उच्च अधिकारियो के संज्ञान में मामला लाने के बाद भी अब तक उच्च अधिकारियों के कान के नीचे जू तक नही रेंगी है।
शायद यही कारण है कि बीते दिनों खुद जिले के पुलिस कप्तान बीरेन्द्रजीत सिंह ने भी यातायात पुलिस और सीपीयू के साथ बैठक की थी और आदेश दिए थे कि पुलिस की चेकिंग के दौरान कोई भागता है तो उसके घर चालान भेजा जाएगा।
तो आखिर पुलिस के मुख्या के आदेशो के बाबजूद आखिर क्यों सीपीयू बिना हेलमेट बाईक युवको को भागने के बाबजूद उन्हें रोकने पर आमादा थी।
जैसे सीपीयू ने युवको के साथ किया अगर ऐसे ही कोई आम आदमी पुलिस कर्मी के साथ गलती से भी करता तो अब तक उस पर सरकारी कार्य मे बाधा से लेकर तमाम आईपीसी की धाराओं में जेल की सलाखों के पीछे होता।
तो आखिर यातायात के नियमो का पाठ पढ़ाने वाले इन सीपीयू कर्मियों को पाठ पढ़ाने वाला कोई अधिकारी नही जो इनसे जबाब तलब भी कर सके।
रुद्रपुर में बीते दिनों एक पैरवी करने आये यूपी के दारोगा को भी बिना हेलमेट के चालान करते हुए सीपीयू ने सुर्खिया बटोरी लेकिन महज 2 दिन बाद जो सितारगंज में सीपीयू ने वाहन चालकों को रोकने के लिए प्रयास किया।
जिसने कही न कही मित्र पुलिस पर सवालिया निशान खड़े कर दिए।
सीपीयू की कारस्तानी से खाकी को भी बदनामी झेलनी पड़ रही है।
रुद्रपुर में सीपीयू का आतंक आप आये दिन देख सकते है तो वही हल्द्वानी में भी लूट के आरोप में सीपीयू सुर्खियों में रही है।
लेकिन सीपीयू क्यो मर्यादित तौर पर कार्यवाही करने की जगह उत्तेजित हो जाती है।
और जिससे यह तक भूल जाती है कि कही एक चूक किसी की जान पर ना बन जाये।

यातायात पुलिस के रहते कभी प्रदेश में इस तरह की घटनाये आम नही हुई
लेकिन काली वर्दी के दस्तक देते ही सीपीयू की काली करतुते सबके सामने आने लग गई थी।

 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here