खुद के जीवित होने के प्रमाण पत्र के लिए अब नहीं लगानी पड़ेगी लाइन

0
54

कुलदीप रावत

 

LokJan Today:उत्तराखंड के दूरदराज के उम्र दराज पेंशनरों के लिए खुशखबरी है अब यह पेंशनर अपने जीवन प्रमाण पत्र को ऑनलाइन जमा कर सकेंगे इसके लिए उन्हें इस उम्र में सफर करके बैंक ट्रेजरी या ब्लॉक में नहीं जाना पड़ेगा मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटल भारत के सपने को साकार करने की दिशा में एक ओर कदम बढ़ाते हुए डिजिटल माध्यम से ई – जीवन प्रमाण पत्र प्रदान करने हेतु आईएफएमएस सॉफ्टवेयर का शुभारम्भ किया गया। इस सॉफ्टवेयर की सहायता से राज्य के पेंशनर देश या विदेश, कहीं से भी अपना ई – जीवन प्रमाण पत्र ऑनलाइन माध्यम से जमा करा सकेंगे। ई – जीवन प्रमाण पत्र को सीएससी केन्द्र से भरा जा सकेगा। पहले जीवित प्रमाण पत्र देने के लिए ट्रेजरी में घंटों लाइन में लगना पड़ता था मैदानी क्षेत्रों में तो इस प्रक्रिया में सहूलियत थी लेकिन पहाड़ी क्षेत्रों में वृद्ध पुरुष और महिलाओं को जीवित प्रमाण पत्र देने के लिए कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था गांव-गांव तक कनेक्टिविटी और सड़क ना होने के कारण इस उम्र में भी वृद्ध पुरुष महिलाओं को पैदल पहाड़ी सफर तय करना होता था लेकिन अब आई एफएमएस सॉफ्टवेयर के माध्यम से देश ही नहीं विदेशों में भी कहीं पर बैठकर अपना जीवित प्रमाण पत्र भरा जा सकेगा


 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here