वीडियो: जज़्बे को सलाम: पुलिस नहीं साक्षात देवदूत है!

0
38
असहाय लोगो तक राशन पहुँचाती पुलिस
असहाय लोगो तक राशन पहुँचाती पुलिस

 

रिपोर्ट मुकेश बछेती

कोरोना संक्रमण से रोकने के लिए सभी लोग अपने घरों में है ओर सरकार के साथ जिला प्रशासन द्वारा ऐसी कवायद की जा रही है,कि सभी लोगों को उनके घर में ही आवश्यक सामान की आपूर्ति की जा सके। मगर इसके बावजूद भी कई पहाड़ी दूरस्थ इलाके ऐसे हैं,जहां बुजुर्ग लोगों तक आवश्यक के सामान की आपूर्ति नहीं की जा पा रही है, जिसके कारण यह लोग बिना समान के बड़ी ही मुश्किल में जीवन यापन कर रहे हैं, ऐसे लोगों के लिए देवदूत बनकर पुलिस प्रशासन हरकत में आया है,यह बात हो रही है थलीसैंण ब्लॉक की। यह ब्लॉक पौड़ी जिले का एक ऐसा ब्लॉक है,जो अति पिछड़े और दुर्गम क्षेत्रों से सटा हुआ है, जिसके कारण इन क्षेत्रों में लॉक डाउन के समय आवश्यक सामान की आपूर्ति करना चुनौती भरा है,अब ऐसी पिछड़े इलाकों के लिए थलीसैंण पुलिस देवदूत के रूप में अपना काम कर रही है थलीसैंण के थाना प्रभारी संतोष पेंथवाल ऐसे ही बुजुर्ग महिलाओं का चिन्हित करके उन महिलाओं को खुद की और से रसद सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं जो महिलाएं बहुत ही वृद्धावस्था में हैऔर गांव में अकेले ही जीवन यापन कर रही हैं, थाना प्रभारी संतोष पेंथवाल ने अभी तक अपने संसाधनों से 20 से 25 महिलाओं को उनके घर-घर जाकर रसद सामग्री उपलब्ध कराई है, थलीसैंण थाना प्रभारी संतोष पेंथवाल ने बताया की इस भारी आपदा में वे जिस प्रकार से भी हो सके ऐसे बुजुर्ग और असहय महिलाओं की मदद कर रहे हैं, जो वाकई में इसके हकदार हैं शहरी और मैदानी क्षेत्रों में तो समाजसेवी बखूबी अपने काम को अंजाम दे रहे हैं मगर इसके बावजूद भी ऐसे पिछड़े इलाके हैं,जहां रसद पहुंचाना अति आवश्यक है,थाना प्रभारी ने बताया कि वे अपनी खुद और अपनी टीम के संसाधनों से ऐसे बुजुर्ग लोगों को आवश्यक सामग्री उनके घर जाकर उपलब्ध करा रहे हैं जो गांव में अकेले रहती है और इधर उधर जा नहीं सकती। लोकजन टुडे ऐसे देव दूतों का सलाम करती है जो इतनी विकट परिस्थितियों में भी खुद का नाम छुपा कर ऐसे काम कर जाते हैं जिन्हें ताउम्र भुलाया नहीं जा सकता।

 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here