प्राइवेट स्कूल कि नीतियों से परेशान जनता… कैसे दे फीस?

निजी स्कूलों की मनमानी पर मुहीम शुरू

लोकजन टुडे मुहीम

रुद्रपुर। एक तरफ जहां देशभर में कोरोना संक्रमण को लेकर लॉकडाउन लगा है और लोगों के रोजगार पूरी तरह से बंद पड़े हैं मजदूर मजदूरी से हाथ धो बैठे हैं तो वही लोग लॉक डाउन में 2 जून की रोटी पूरी करने के लिए जद्दोजहद करने में लगे हैं, वही ऐसी आपातकाल स्थिति में भी प्राइवेट स्कूल अपनी मनमानी से बाज नहीं आ रहे हैं जहां एक और लोगों में अपने और अपने परिवार को रोटी नही खिला पा रहे है, तो वहीं निजी स्कूल मनमानी करते हुए अभिभावकों के मोबाइल पर नोटिफिकेशन जारी कर फीस जमा करने का दबाव बना रहे हैं आजकल सोशल मीडिया पर बहुत तेजी से लोगों में आक्रोश देखने को मिल रहा है।

प्रतीकात्मक कार्टून

रुद्रपुर के निजी स्कूलों की मनमानी को लेकर सोशल मीडिया पर छिड़ी जंग में पूर्व छात्र नेता अब मैदान में उतर आए हैं पूर्व छात्र नेताओं के अनुसार ऐसी स्थिति में जहां लोग एक दूसरे की मदद कर रहे हैं तो वहीं निजी स्कूल अभिभावकों पर दबाव बनाकर उनसे फीस लेने की फिराक में लगे हैं।

निजी स्कूलों की मनमानी पर मुहीम शुरू

वहीं इस पूरे मामले में जब पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष संदीप सीमा से लोकजन टुडे सवांददाता राजीव चावला ने बात की तो उन्होंने बताया कि अभिभावक कोरोना से मरे ना मरे, लेकिन निजी स्कूलों के प्रबंधन के द्वारा बनाए जा रहे फीस के दबाव के चलते जरूर मर जाएंगे, ऐसे में जरूरत है कि प्रशासन और सरकार इस ओर ध्यान दें और अभिभावकों को के हो रहे उत्पीड़न के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें।

लोकजन टुडे संवाददाता राजीव चावला से खास बातचीत में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश महामंत्री हिमांशु बाबा ने बताया कि हमेशा निजी स्कूल प्रबंधन और मालिकों के चर्चे सिर्फ और सिर्फ अभिभावकों को लूटने के ही रहे हैं ऐसे माहौल में जहां सब एक दूसरे की मदद कर रहे हैं सभी संगठन भूखों को रोटी खिला रहे हैं देश में आपातकाल की स्थिति है ऐसे में स्कूल प्रबंधन को भी गरीबों की मदद के लिए आगे आना चाहिए था लेकिन स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के अभिभावकों का शोषण कतई बर्दाश्त नहीं होगा उन्होंने कहा कि प्रदेश की सरकार इस और अपना ध्यान आकर्षित करें और ऐसे स्कूल प्रबंधन पर कड़ी कार्यवाही करें।

प्रतीकात्मक कार्टून

वहीं इस पूरे मामले में पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष रहे प्रमोद शर्मा ने भी अभिभावकों को के साथ हो रही निजी स्कूल प्रबंधन की मंशा को लेकर सोशल मीडिया पर जंग छेड़ दी है प्रमोद शर्मा का साफ तौर पर कहना है ऐसे माहौल में स्कूल प्रबंधन को अभिभावकों के ऊपर फीस का बोझ नहीं डालना चाहिए, और पूर्व में भी स्कूल प्रबंधन की मनमानी फीस बढ़ाने को लेकर प्रमोद शर्मा के द्वारा अभियान चलाया गया था जिसके बाद स्कूल प्रबंधन पूर्व छात्रसंघ अध्यक्षों के इस आंदोलन के आगे घुटने टेक गया था इस बार फिर प्रमोद शर्मा ने कड़े शब्दों में स्कूल प्रबंधन को चेतावनी दी है कि वह अपनी मनमानी बंद करें नहीं तो सड़कों पर लॉक डाउन के बाद प्रदर्शन आंदोलन होगा।

वहीं इस पूरे मामले को लेकर जब कुछ निजी स्कूल मालिकों और प्रबंधकों से लोकजन टुडे संवाददाता राजीव चावला ने बात की तो उन्होंने बताया कि जो सक्षम है फीस देने में वह फीस दे सकते हैं क्योंकि स्कूल के कंप्यूटर का सिस्टम सभी के मोबाइल पर नोटिफिकेशन जारी करता है और जो लोग सक्षम नहीं है उन पर किसी भी तरह का कोई दबाव नहीं बनाया जा रहा है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here