वीडियो: भ्रामक ख़बरे फैलाने वालो को राजीव चावला की खुली चुनौती!

0
1015

लोकजन टुडे। आखिर कुछ लोग अपने आपको लगता है न्यालय से भी ऊपर मानने लगे हैं जिसकी वजह से विचाराधीन मामलों पर भी अपने आप को जज मान कर लोगों को फैसले सुनाने में जुटे हुए हैं ऐसा ही एक मामला आया उधम सिंह नगर में जहां लोकजन टुडे के कुमाऊं प्रभारी राजीव चावला की छवि बिगाड़ने के लिए कुछ तथाकथित लोगों ने भ्रामक खबरें छपवाई… यह वही लोग है जो जनहित की खबरों को प्रमुखता से चलाने वाले राजीव चावला को बदनाम करने की सरासर कोशिश कर रहे हैं लेकिन जब इस बाबत हमने अपने पत्रकार राजीव चावला से सवाल किए तो उनका क्या कहना था आप भी सुने…

राजीव चावला की जुबानी…. बीते कुछ दिन से कुछ पत्रकार मेरी छवि को खराब करने में लगे हैं जबकि उन्होंने मेरे ऊपर षड्यंत्र के तहत दर्ज हुए मुकदमे को पढ़ा नहीं है, जबकि साजिश के तहत फसाने के बाद भी पुलिस के पास अब तक किसी भी तरह का कोई साक्ष्य न्यायालय में पेश नहीं किया गया है जब कि कुछ पत्रकार मेरे ऊपर सेक्स रैकेट की धारा की बात करते हैं कि मेरे ऊपर सेक्स रैकेट का केस लगा था, जिसमे में जेल गया था,
मैं उन्हें चैलेंज करता हूं कि वह मेरे दोनों मुकदमों की एफआईआर पढ़कर अज्ञानी पत्रकार सेक्स रैकेट की धारा है तो साबित तो करे।

2018 में मेरे ऊपर साजिशन कुछ राजनीतिक और अधिकारियों के द्वारा मुकदमे लिखवाए गए थे जो महज 384/389 और 384/342 की आईपीसी की धारा में दर्ज है लेकिन कुछ लोग मेरी समाज में छवि धूमिल करने के लिए मनगढ़ंत कहानियां बनाकर समाज के आगे पेश कर रहे हैं जिससे मेरी मानहानि हो रही है जिसके लिए मैंने अपने कानूनी सलाहकारों से सलाह ले ली है और अब मेरे कानूनी सलाहकार संबंधित अखबार और न्यूज पोर्टल पर कार्यवाही करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है जल्द ही मनगढ़ंत कहानी लिखकर मेरे ऊपर आरोप लगाने वाले समाचार अखबार और न्यूज़ पोर्टल को जवाब देना होगा कि आखिरकार सत्य है क्या।

और जब इस बात का पता उक्त अखबार के संपादक को लगा तो उन्होंने अपने अखबार में छपी खबर का संज्ञान लेते हुए तुरंत खंडन छाप दिया और उक्त अपने रिपोर्टर के खिलाफ जांच बैठा दी.. जिसने खबर की सत्यता को ना जाने हम खबर का प्रचार प्रसार कर दिया.. देखिए अखबार ने क्या लिखा..

 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here