शादी में कुर्सी में बैठकर खाना खाने पर सवर्णों ने दलित युवक को पीट पीटकर मार डाला, मुकदमा दर्ज

0
30


लोकजन टुडे, देहरादूनः शादी में खाने के दौरान हुए विवाद में सवर्णों ने अनुसूचित जाति के एक युवक को पीट—पीटकर अधमरा कर दिया। दस दिन अस्पताल में जूझने के बाद युवक ने रविवार सुबह दम तोड़ दिया। मृतक की बहन ने घटना के अगले ही रोज टिहरी जिले के कैंम्पटी थाने में गांव के सात लोगों के खिलाफ गाली—गलौज और पिटाई का मुकदमा दर्ज करा दिया था। पुलिस के अनुसार पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पिटाई से मौत का मामला सामने आता है तो मुकदमे में अन्य धाराएं जोड़ दी जाएंगी। वहीं, देहरादून में युवक की मौत के बाद परिजन कोरोनेशन अस्पताल के बाहर धरने पर बैठ गए। इस दौरान वो शव को सीएम आवास ले जाने की जिद पर अड़े रहे। साथ ही केंपटी थाने के पूरे स्टाफ को हटाने की मांग की। आपको बता दे कि युवक की ही कमाई से घर का खर्चा चलता था। परिजनों की मांग है कि घर के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए।

टिहरी जिले के जौनपुर विकासखंड के श्रीकोट गांव में बीती 26 अप्रैल का यह घटना सामने आई थी। गांव में एक शादी समारोह में कुछ सवर्ण खाना खा रहे थे, तभी बसांण गांव निवासी अनुसूचित जाति का युवक जितेंद्र वहां आया। इसी दरम्यान उसके और सवर्णों के बीच कहासुनी हो गई। आरोप है कि सवर्णों ने दबंगई दिखाते हुए जितेंद्र को बुरी तरह पीट दिया। किसी तरह वह वहां से निकलकर अपने घर पहुंचा।

परिजन जितेंद्र को उपचार के लिए नैनबाग स्थित स्वास्थ्य केंद्र ले गए, प्राथमिक उपचार देने के बाद डाक्टरों ने उसे हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया। इस पर परिजन उसे देहरादून में श्री महंत इंदिरेश अस्पताल लाए, जहां रविवार सुबह उसने दम तोड़ दिया। जितेंद्र की बहन पूजा ने घटना के अगले ही दिन कैंम्पटी थाने में सात लोगों के खिलाफ तहरीर दे दी थी। इस आधार पर पुलिस ने 29 अप्रैल को ग्राम भटवाड़ी के सात लोगों गजे सिंह, सोबत सिंह, कुशल, गबर सिंह, गम्भीर सिंह, हरी सिंह और हुकम सिंह के खिलाफ गाली गलौज, जान से मारने की धमकी, मारपीट और जातिसूचक शब्द इस्तेमाल करने का मुकदमा दर्ज कर लिया था। रविवार को मृतक की बहन ने सवर्णों पर जितेंद्र की हत्या करने का आरोप लगाया है।

एसपी डॉ योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि प्रारंभिक जांच मेें सामने आया है कि घटनाक्रम के बाद जितेंद्र नामक युवक अपने घर गया और वहां उसने मिर्गी की दवा की डोज ली। इसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया। एसपी का कहना है कि युवक की मौत किस वजह से हुई, इसका पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चलेगा। इसके अनुरूप में मुकदमे में धाराएं बढ़ाई जाएंगी।
डीएम सोनिका का कहना है कि इस मामले में सात लोगों के खिलाफ पहले ही मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद अगला कदम उठाया जाएगा। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

देहरादून दलित युवक की मौत के बाद कोरोनेशन अस्पताल के पास धरने पर बैठे परिजन।। बॉडी को लेकर सीएम आवास ले जाने की तैयारी में थे परिजन इस दौरान पुलिस ने लोगों को कोरोनेशन अस्पताल में ही रोक लिया

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here