व्यंग: चाचा बतोले की ख़बर पर लगी मोहर!

0
92

 

अरे चाचा… तू भी ना गज़ब आदमी है… तभी चाचा.. अबे इतना क्यों उछल रहा बात बता हुआ क्या…  चाचा तूने कमाल कर दिया तू तो great है… अबे कुछ बतायेगा भी या बस बकतोड़ि ही करता रहेगा… चाचा तूने ही कहा था पहले चखना और उसके बाद दारु के ठेके खुल जावेंगे और कल आर्डर भी आ जावेगा… तभी चाचा… हां तो इसमें झूठ क्या है.. अरे चाचा मै भी तो यों ही कह रहा इसमें थोड़ा सा भी नहीं झूठ है यों तो 16 आने सच है चाचा तूने ही कहा था दारु के ठेके खोलने के आदेश आ जावेंगे और चाचा आदेश भी आ गये ठेके भी अब खुल जावेंगे और दुनिया ईब दारु पीकर घर से बाहर भी नहीं निकलने की हो गया काम पक्का… शाम को घर पर ही बैठकर दारु पी जावेगी.. और वो भी पूरी पेट भर कर क्यूकी ऑफिस की तो छुट्टी है अब तो रोज पार्टी टाइम 6pm to 6am चलेगा नाच गाना.. न तो स्कूल बच्चों को जाना और ना ही अपने को काम पर जाना और सारे दिन घर पर सोना जिंदगी हो गई सुपर सोना बैंक की किस्त देनी नहीं बाहर निकलना नहीं तो क्यों मिलेगा ‘कोरोना’ एकदम सही पकड़ा तूने भतीजे… बाबा तेरी देर में इन्हीं के पैसों से मैच फिक्स कर दिया.. एक और भविष्यवाणी सुन शराब और भी सस्ती करेगा… मंदी शराब, मंदा धंधा, तू भी सोच ले कुछ नया धंधा… बेटा दारू के इस खेल में त्रिदेव बाबा ने करोड़ों रुपए कमा लिया और अब बारी है दारु के ठेकेदारों की… तभी प्रकाशा बोल पड़ा… अरे वो कैसे तो सुन काम की बात ठेकेदारों की एडवांस जमा हुई पेमेंट में,  शराब मंदी करके जायदा माल उठवावेगा और उसमे भी 50-50 करेगा समझा बेटा… और अगर नहीं समझा तो जब ठेके खुलेंगे तो नई रेट लिस्ट भी देख लियो आ जाएगा पूरा खेल समझ… 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here