लॉक डाउन के चलते नही पहुँच पा रहे अस्पताल,स्वास्थ्य विभाग की उजागर हुए नाकाफी इंतजाम,

0
3

देहरादून।।
महामारी से बचने के लिए देश भर में लॉक डाउन ।।

लॉक डाउन के चलते कई लोगों को पेश आ रहे परेशानी।।

स्वास्थ्य विभाग की तरफ से नाकाफी इंतजाम बने मुसीबत का सबब।।

संसाधन न होने के चलते तीमारदार हो रहे परेशान।।

जी हाँ यू तो देश ही नही दुनिया भर में फैली महामारी से बचाव के लिए लॉक डाउन कर कर्फ्यू लगाया गया है ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से बचाया जा सके..लेकिन समस्या उन तमाम बीमार लोगों के सामने आ खड़ी हुई है जो लोग लंबे समय से बीमार चल रहे है और उन्हें समय समय ईलाज के लिए अस्पताल जाना पड़ता है लेकिन उन गरीब तीमारदारों के लिए ये समस्या किसी पहाड़ जैसी चुनौती से कम नही है उन गरीब परिवारों के पास न ही पैसा है और न ही स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन की तरफ से लॉक डाउन के दौरान ऐसे मरीजों को अस्पताल पहुंचाने की कोई व्यवस्था बनाई गई है जिसके चलते लोगों को खासा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है इन तमाम समस्याओं से सायद सरकार और प्रशासन अंजान है

स्वास्थ्य विभाग की ऐसी ही नाकामी शुक्रवार को उस वख्त घंटा घर पर देखने को मिली जब डायलेसिस के लिए जॉलीग्रांट जाने के लिए महिला अपने पति को लेकर घंटो बैठ कर गाड़ी का इंतजार कर रही थी लेकिन जिस पहचान वाले का इंतजार वो कर रहे थे उसे पुलिस ने लॉक डाउन के चलते वापस लौटा दिया उधर दिनेश थपलियाल का डायलेसिस होना बेहद जरूरी था सायद इस समस्या को आम आदमी से ज्यादा बेहतर स्वास्थ्य विभाग समझ सकता है बावजूद इस तरह के मरीजों की सुविधा के लिए अलग से कोई व्यवस्था नही बनाई गई है आपकों बता दें की दिनेश थपलियाल दून के ही डंगवाल मार्ग के रहने वाले है जिनके घर मे उनके और उनकी पत्नी के अलावा कोई तीसरा नही है जो उनका सहारा बन सके वही हर हफ्ते दिनेश को डायलेसिस के लिए जॉलीग्रांट अस्पताल जाना पड़ता है लेकिन जब से लॉक डाउन हुआ है तब से उनके लिए जॉलीग्रांट पहुंचना बहुत मुश्किल हो गया है क्योंकि स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन की तरफ से ऐसे मरीजों के लिए कोई व्यवस्था बनाई ही नही गई दिनेश की पत्नी कहती है कि सरकार ने तो लॉक डाउन का कदम सभी के अच्छे के लिए उठाया है लेकिन अगर मैं अपने पति का डायलेसिस न करवाने जाऊ तो कोरोना से पहले तो ये बीमारी जान लेलेगी..हालांकि अब सवाल ये है कि अगर इसी तरह लॉक डाउन जारी रहा और प्रशासन द्वारा भी मजबूर मरीज और तीमारदारों के लिए कोई व्यवस्था नही की गई तो सायद वायरस से पहले लोग बीमारी का उपचार न मिलने से ही दम तोड़ देंगे…

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here