जैसे-जैसे बाजारों में आवाजाही शुरू होगी,पॉलीहाउस में हॉर्टिकल्चर के माध्यम से पौधों को भी लगाना शुरू कर दिया जाएगा: डीएम गबर्याल

0
5

रिपोर्ट: मुकेश बछेती

पौड़ी: जिले में फ्लोरीकल्चर को स्थापित करने के लिए जिलाधिकारी पौड़ी ने इसकी शुरुआत कर दी है, इसके लिए ग्रामीण स्तर पर परियोजना के मॉडल को पूरे जिले में लागू करने की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। इसमें उद्यान विभाग की मदद ली जा रही है और किसानों को पॉलीहाउस तकनीक से जुड़कर एग्रीकल्चर के साथ साथ फ्लोरीकल्चर की खेती की गुण भी सिखाए जा रहे हैं। इसके लिए जनपद पौड़ी के पोखड़ा ब्लॉक को चुना गया है।

कभी कम बारिश से तो कभी अधिक बारिश के साथ ओलावृष्टि से किसानों को नुकसान उठाना पड़ता है, ऐसे में पॉलीहाउस तकनीकी ही सबसे कारगर तकनीक ग्रामीण इलाको में साबित हो सकती है। जिससे किसानों की आमदनी की संभावना भी बड़ाई जा सकेगी।

जिलाधिकारी धिराज सिंह गबर्याल ने बताया कि फेस 1 में फ्लोरीकल्चर को बढ़ावा देने के लिए हॉर्टिकल्चर के माध्यम से बीज उपलब्ध कराए जाएंगे। इसके साथ ही हजार के करीब पॉलीहाउसेस इच्छुक ग्राम सभा को दिए जाएंगे। फिलहाल लॉक डाउन की वजह से मार्केट पूरी तरह से नहीं खुल पाए हैं तो इन पॉलीहाउस में मौसमी सब्जी उगाने की तकनीक के बारे में जानकारी दी जाएगी।

जैसे-जैसे बाजारों में आवाजाही शुरू होती रहेगी तो इन पॉलीहाउस में हॉर्टिकल्चर के माध्यम से उगाए जाने वाले पौधों को भी लगाना शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि आने वाले समय में जिला योजना में फ्लोरीकल्चर के लिए भी पैसा उपलब्ध कराया जाएगा, जिससे पूरे जिले में फ्लोरीकल्चर को भी बढ़ावा मिल सके और किसानों की आमदनी को दोगुना किया जा सके।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here