चमोली आपदा में बागेश्‍वर के इंजीनियर की मौत,परिवार में मचा कोहराम

0
27

चमोली: उत्तराखंड के चमोली जिले में रविवार को नंदा देवी ग्लेशियर टूटने से आयी आपदा के बाद से ही राहत एवं बचाव कार्य युद्ध स्तर पर जारी है। मंगलवार को रेसक्यू अभियान के दौरान कांडा तहसील भतौड़ा गांव के एक युवक का शव बरामद हुआ।

भतौड़ा निवासी दीपक कुमार (28) ऋषिगंगा पावर प्रोजेक्ट में बतौर इलेक्ट्रिकल इंजीनियर के पद पर कार्यरत था। वह यहां बीते एक साल से कार्य कर रहा था। इससे पहले दीपक कुमार उत्तर भारत हाइड्रो पावर कारपोरेशन लिमिटेड में इंजीनियर के रुप में कार्यरत थे। घटनास्थल पर पहुंचे उनके बड़े भाई अरुण कुमार ने शव की पहचान की।

परिजनों ने बताया कि दीपक का बीते रविवार 7 फरवरी को सुबह करीब 8 बजे मोबाइल पर मैसेज आया था। उसके बाद कुछ देर परिजनों से बातचीत हुई। उसने अपने परिजनों को बताया था कि उसकी रात्रि ड्यूटी थी। कुछ देर पहले की वह आया है। अब वह आराम करेगा। उसके बाद सुबह सवा दस बजे चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से उफनाई ऋषिगंगा व धौलीगंगा नदियों ने जमकर तबाई मचाई।

आपदा आने के बाद से दीपक का मोबाइल फोन बंद आ रहा था। जिसके बाद परिजन परेशान हो गए। बीते सोमवार को दीपक कुमार के बड़े भाई अरुण कुमार जो भतौड़ा के प्रधान भी है वह घटनास्थल को रवाना हुए। मंगलवार को रेसक्यू आपरेशन के दौरान उनका शव बरामद हुआ।घटना के बाद पूरे जिले में शोक की लहर दौड़ गई।