परिक्षेत्र के समस्त जनपदो को हत्या, लूट, डकैती, अपहरण, रंगदारी जैसे अपराधों में संलिप्त अभ्यस्त अपराधियो को चिन्हित करते हुए टॉप -10 लिस्ट बनाकर…

0
199

रिपोर्ट- करन सहगल

देहरादून: बुधवार को अभिनव कुमार ,पुलिस महानिरीक्षक, गढवाल परिक्षेत्र द्वारा गढ़वाल परिक्षेत्र के जनपदीय वरिष्ठ/पुलिस अधीक्षको के साथ विडियों क्रान्फ्रेसिंग के माध्यम से परिक्षेत्रीय अपराध गोष्ठी की गयी साथ ही गोष्ठी के दौरान परिक्षेत्रीय जनपदों में प्रभावी अपराध नियंत्रण कर निम्न बिन्दुओं पर विस्तारपूर्वक चर्चा कर सम्बन्धित जनपद प्रभारियों को आवश्यक निर्देश दिये गये।

  • परिक्षेत्र के जनपदों की अपराध स्थिति की समीक्षा कर डकैती, लूट, चोरी, वाहन चोरी,नकबजनी एवं अन्य सम्पत्ति सम्बन्धी अपराधों के शीघ्र अनावरण एवं शत-प्रतिशत बरामदगी/विवेचना के विधिक निस्तारण किया जाए।
  • परिक्षेत्र के समस्त जनपदो को हत्या, लूट, डकैती, अपहरण, रंगदारी जैसे अपराधों में संलिप्त अभ्यस्त अपराधियो को चिन्हित करते हुए टॉप -10 लिस्ट बनाकर ऐसे अपराधियों की प्रभावी निगरानी के साथ-साथ आवश्यकतानुसार गैंगस्टर एक्ट, गुण्डा एक्ट व रा.सु.का.में निरूद्ध करने हेतु निर्देशित किया गया।
  • साइबर सम्बन्धी अपराधों में उत्तरोत्तर वृद्धि के दृष्टिगत रेंज के समस्त जनपदों को साइबर क्राईम व ऑनलाइन धोखाधड़ी जैसे अपराधों को रोकने हेतु लापरवाही न बरतते हुए इस प्रकार की प्रत्येक शिकायत पर शत-प्रतिशत अभियोग पंजीकृत किया जाए।
  • ताकि निकट भविष्य में साईबर क्राइम से निपटने हेतु आवश्यक संसाधन,प्रशिक्षण व रिक्रूटमेंट का वास्तविक आंकलन हो सके जिससे साईबर क्राइम पर प्रभावी अंकुश लगाया जा सके। इस सम्बन्ध में जनपद की S.O.G. को विशेष प्रशिक्षण देने तथा आम जन मानस में साइबर क्राइम के प्रति सजगता हेतु वृह्द स्तर पर जन-जागरूकता अभियान चलाकर व व्यापक प्रचार प्रसार हेतु भी निर्देशित किया गया।
  • कोविड-19 के दृष्टिगत अन्य राज्यों से जनपदों में आने वाले प्रवेश मार्गों/चैक पोस्ट पर स्क्रीनिंग/चैंकिग के दौरान वहां पर वाहनों की बढ़ती संख्या से लगने वाले जाम को नियंत्रित करने हेतु उक्त स्थलों पर निरीक्षण कर उचित पुलिस बल/बैरेकेडिंग लगा कर लगने वाले अनावश्यक जाम को नियत्रित किया* जाये। जिससे उक्त बॉर्डर/चैक पोस्ट पर आम जनता को आवागमन मे अनावश्यक रूप से परेशानी का सामना न करना पड़े।
  • कोरोना (कोविड-19) के संक्रमण दृष्टिगत रोकथाम हेतु जनपदों में नियुक्त पुलिस बल को ड्यूटी के दौरान *संक्रमण से बचाव हेतु प्रत्येक 15 दिवस के भीतर ड्यूटी स्थलों/प्रवास स्थानो की नियमित सैनेटाईजिंग करने के साथ पुलिस बल को संक्रमण से बचाव हेतु पर्याप्त सुरक्षा उपकरणों की समीक्षा कर उनकी उपलब्धता सुनिश्चित करायी जाए।
  • मानसून सीजन के दृष्टिगत परिक्षेत्रीय जनपदों में विशेषत: पर्वतीय जनपदों के आपदा के दृष्टिकोण से संवेदनशील होने के फलस्वरूप जनपदो में *विगत 03 वर्षो के ऐसे मुख्य स्थान को चिन्हित कर जहाँ Accident Prone Area/land sliding Zone अधिक है उन स्थानो पर आपदा से निपटने हेतु तैयारियों जैसे प्राथमिक उपचार/एमबुलेन्स की सुविधा व JCB आदि की उपलब्धता की व्यक्तिगत रूप से समीक्षा कर ली जाय ताकि आवश्यकता पड़ने पर तत्काल राहत उपलब्ध हो सके।
  • चार-धाम यात्रा प्रारम्भ होने के दृष्टिगत यात्रा-मार्गों में समुचित पुलिस प्रबंध सुनिश्चित करने तथा यात्रा के मार्गों में यातायात को सुचारु रूप से संचालित करने के साथ ही व्यापक सुरक्षा व्यवस्था को सुनिश्चत किया जाए।
  • समस्त परिक्षेत्रीय जनपदों को यह भी निर्देशित किया गया कि परिक्षेत्रीय स्तर से जो भी आदेश-निर्देश निर्गत किये जाये यथा स्थानान्तरण सम्बन्धी आदेश,जांच हेतु प्रेषित शिकायती व अन्य प्रार्थना पत्र प्रेषित किए जाएं उनका तत्काल/समयबद्ध निस्तारण किया जाए।
  • परिक्षेत्र के सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण सीमान्त जनपद चमोली व उत्तरकाशी जनपद प्रभारियों को विशेष रुप से निर्देशित किया गया कि उनके द्वारा आगामी 15 दिवस में जिला प्रशासन, ITBP व सेना से समन्वय स्थापित कर बॉर्डर पर अवस्थित प्रत्येक गांव का संयुक्त रूप से भ्रमण एवं निरीक्षण कर ग्रामीणों की समस्या सुन ली जाए साथ ही बार्डर क्षेत्र की सुरक्षा समीक्षा भी कर ली जाये।
  • उक्त विडियों क्रान्फ्रेसिंग में अरुण मोहन जोशी पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून, सेंथिल अबूदेई कृष्णराज वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद हरिद्वार, दिलीप सिंह कुंवर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पौड़ी गढ़वाल,  योगेन्द्र रावत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद टिहरी, पंकज भट्ट पुलिस अधीक्षक जनपद उत्तरकाशी, यशवन्त सिंह पुलिस अधीक्षक जनपद चमोली एवं  नवनीत भुल्लर पुलिस अधीक्षक जनपद रूद्रप्रयाग  रहे।

 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here