आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाओं एवं प्राकृतिक आपदा जैसी परिस्थितियों में ड्रोन महत्वपूर्ण: सीएम त्रिवेंद्र रावत

0
18

 

रिपोर्ट: कुलदीप रावत

देहरादून: अगर आप ड्रोन से संबंधित किसी भी जानकारी  से रूबरू नहीं है  और आप  जानकारी लेना चाह रहे हैं तो राजधानी देहरादून  के आईटी पार्क में चल रहे दो दिवसीय ड्रोन फेस्टिवल में जा सकते हैं।

बहुत कम समय में काफी प्रगति…

आज सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने  सूचना प्रौद्योगिकी भवन, आईटी पार्क, देहरादून में इंडिया ड्रोन फेस्टिवल-2.0 का शुभारम्भ किया। सीएम त्रिवेन्द्र ने विभाग को बधाई देते हुए कहा कि उत्तराखण्ड राज्य ने एनटीआरओ के सहयोग से इस क्षेत्र में बहुत कम समय में काफी प्रगति की है। आज के तकनीकी युग में ड्रोन का बहुआयामी उपयोग हो सकता है। उत्तराखण्ड जैसे पर्वतीय राज्यों में ड्रोन की उपयोगिता बढ़ी है।

देहरादून में देश के पहले ड्रोन एप्लीकेशन …

उन्होंने कहा कि आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाओं एवं प्राकृतिक आपदा जैसी परिस्थितियों में ड्रोन महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। इस तकनीक का इस्तेमाल कर अपने जीवन को नई दिशा दे सकते हैं। सीएम  ने कहा कि युवाओं को देश का भविष्य बताते हुए  कहा कि ऐसे कार्यक्रमों में युवाओं की भागीदारी जरूरी है। उन्होंने कहा कि देहरादून में देश के पहले ड्रोन एप्लीकेशन प्रशिक्षण केन्द्र एवं अनुसंधान प्रयोगशाला की स्थापना की गई। इस प्रकार की नई-नई तकनीकों का इस्तेमाल करते हुए युवा अपने देश व प्रदेश की प्रगति में अहम भूमिका निभा सकते हैं। ड्रोन व इससे सम्बन्धित तकनीकी शिक्षा से युवाओं को रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगे।

इस अवसर पर सीएम ने उत्तराखण्ड के मेरी सरकार पोर्टल…

इस अवसर पर सीएम ने उत्तराखण्ड के मेरी सरकार ( My Gov ) पोर्टल (www-uttarakhand-mygov-in ) का भी शुभारम्भ किया। इस पोर्टल के माध्यम से कोई भी व्यक्ति सीधे सरकार से सम्पर्क कर किसी भी विषय में अपने सुझाव दे सकता है। सीएम ने जीआईएस बेस्ड, ड्रोन मैपर साॅफ्टवेयर ‘DARC MAPPER का भी विमोचन किया। ड्रोन एप्लीकेशन सेंटर के माध्यम से तैयार इस साॅफ्टवेयर के द्वारा फोटो को कैप्चर करने, 3 डी माॅडल बनाने एंव डाटा विश्लेषण करने में किया जा सकेगा।

13 जनपदों के 1500 स्कूल एवं…

सचिव आर.के. सुधांशू ने कहा कि इण्डिया ड्रोन फेस्टिवल 2.0 को प्रदेश के 13 जनपदों के 1500 स्कूल एवं लगभग 2 लाख बच्चे इस कार्यक्रम से सीधे जुड़े हुए हैं। उन्होंने ड्रोन की उपयोगिता को समझाते हुए कहा कि यह प्रदेश की भौगोलिक परिस्थितियों को देखते हुए राज्य में आपातकालीन परिस्थितियों में काफी सहायक सिद्ध होगा।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here