जिन अभिभावकों के पास स्मार्टफोन नहीं हैं, उन बच्चों को कैसे पढ़ाया जाएं ये समस्या चुनौती बनी हुई : कुंवर सिंह रावत

0
23

रिपोर्ट: मुकेश बछेती

पौड़ी: कोरोना के चलते लॉकडाउन में शिक्षा क्षेत्र भी प्रभावित हुआ है। छात्रों की शिक्षा न रुके इसके लिए शिक्षा विभाग ने छात्रों के लिए ऑनलाइन शिक्षा सुविधा शुरू कराई है। शिक्षा विभाग ने ऑनलाइन पढ़ाई में शिक्षकों के साथ छात्रों से हो रहे संवाद की जानकारी लेने के लिए एक टीम का गठन किया है। ये टीम जिला स्तर पर गठित की गई है।

ऑनलाइन शिक्षा के दौरान शिक्षक और छात्रों के बीच हो रहे संवाद और पढ़ाई में आ रही दिक्कतों को जानने के लिए शिक्षा विभाग ने जनपद पौड़ी के 15 ब्लॉकों के लिए 5 शिक्षकों को चयनित किया है। इसमें प्रत्येक व्यक्ति हर दिन किसी भी ब्लॉक के पांच शिक्षकों के साथ फोन पर बातचीत कर जानकारी लेंगे, इसमें मुख्य रूप से उन क्षेत्रों पर ध्यान दिया जा रहा है, जहां पर नेटवर्क की अधिक समस्या रहती है।इसके लिए अभिभावकों को अपने बच्चों के पठन-पाठन के लिए जागरूक होना भी जरूरी है।

मुख्य शिक्षा अधिकारी बेसिक कुंवर सिंह रावत ने बताया कि लॉकडाउन होने के बाद बच्चों के पठन-पाठन की प्रक्रिया पूरी तरह से रुक गई थी,वहीं अब ऑनलाइन के माध्यम से बच्चों को पढ़ाने का काम किया जा रहा है। उनके समक्ष नेटवर्क और जिन अभिभावकों के पास स्मार्टफोन नहीं हैं, उन बच्चों को कैसे पढ़ाया जाएं ये समस्या चुनौती बनी हुई है। उनकी ओर से सभी अभिभावकों से अनुरोध किया गया है कि वह अपने बच्चों के भविष्य को देखते हुए स्मार्टफोन की मदद से बच्चों के पठन-पाठन की प्रक्रिया सुचारू रखें।

इस टीम के लिए चुने गए शिक्षक रविंद्र बिष्ट ने बताया कि शुरूआती दौर से सभी शिक्षक अपने स्तर पर बच्चों से संवाद कर ऑनलाइन शिक्षा दे रहे हैं। सभी शिक्षकों को निर्देशित किया गया है कि जो कोर्स बच्चों को पढ़ा रहे हैं, उसका डाटा अपने पास सुरक्षित रखें,जिससे भविष्य में इसी डाटा के आधार पर आगे की पढ़ाई को सुचारू रखा जा सके।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here