अगर आप नैनीताल घूमने आ रहे तो ये खबर आपके लिए…!

0
89

नैनिताल: पर्यटकों के लिए बड़ी खबर है। नैनीताल में प्रवेश पाना पहले से थोड़ा कठिन हो जाएगा। ऐसा इसलिए क्योंकि कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच जिला प्रशासन सख्त हो गया है। जिसके बाद प्रशासन ने अस्पताल प्रबंधन के साथ मिलकर प्लानिंग शुरू कर दी है। अब शहर में एंट्री के वक्त थर्मल स्क्रीनिंग और रैंडम कोरोना जांच भी शुरू हो जाएगी।

कोरोना के बढ़ते मामले सिर्फ अन्य राज्यों में ही नही बढ़ रहे बल्कि उत्तराखंड में भी स्थिति खराब हो रही है। धीरे-धीरे कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ने में लगी है। ऐसे में सरकार ने भी नई एसओपी जारी कर दी थी। जिसके तहत 12 राज्यों से उत्तराखंड आने वालों के लिए कोरोना जांच अनिवार्य की गई है।

इधर, नैनीताल में भी दिन-प्रतिदिन एक-एक कर कोरोना केसे बढ़ रहे हैं। जिस कारण से नैनीताल जिला प्रशासन और अस्पताल प्रबंधन ने भी अहम फैसला लिया है। फैसले के मुताबिक एक अप्रैल से ही शहर में ठीक पहले की तरह कोरोना जांच संबंधी अन्य अभियान चलाए जाएंगे।

अस्पताल पीएमएस डॉ केएस धामी ने पूरी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि अस्पताल कर्मियों की टीमें भी बना ली गई हैं। साथ ही शहर के एंट्री प्वाइंट समेत सब जगह भी चिन्हित कर ली गई हैं। मतलब साफ है कि पर्यटकों को बिना थर्मल स्क्रीनिंग के शहर में प्रवेश नहीं मिलेगा। साथ ही पर्यटकों की रैंडम कोरोना जांच भी की जाएगी।

डॉ. केएस धामी ने बताया कि शहर के भवाली रोड और कालाढूंगी रोड में बारापत्थर के पास कैम्प लगाया जाएगा। गठित की गईं टीमें सुबह से शाम तक एंट्री पॉइंट पर तैनात रहेंगी। जानकारी के अनुसार कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच अस्पताल में भी अधिक टेस्टिंग शुरू होगी। इतना ही नहीं आने वाले समय में शहर के अलग-अलग जगहों पर कैंप लगाए जाएंगे। जहां होटल कर्मियों, टूरिस्ट गाइड और पर्यटन कारोबार से जुड़े लोगों की कोरोना जांच की जाएगी।