Inside Story: कुछ तो गड़बड़ चल रहा है सब्जी मंडी मे!

0
30

 

 

पार्ट 1…

कुछ तो गड़बड़ चल रहा है सब्जी मंडी मे।।। 

फ़ाइल फोटो

आखिर ऐसा क्या हुआ कि कोरोना वारियर आज कोरोना करियर के नाम से जाने जा रहे है!

आखिर कौन है वो जो इस कोरोना काल में भी 8 रुपए किलो टमाटर 25 रुपए किलो बिकवा रहा है…

इससे भी बड़ा सवाल कि आखिर कौन है जो मंडी के व्यापारियों को काम करने से रोक रहा है और कोरन्टाइन का डर दिखा कर देशभक्त बन रहा है।

आज लोकजन टुडे अपनी इनसाइड स्टोरी में ये सभी सवालों के जवाबो के साथ अपने पाठको के सामने खबर ले कर आया इस कहानी में हमारी पड़लाल शुरू होती है कि आखिर मंडी में कैसे पंहुचा कोरोना? सवाल बड़ा था और मुश्किल भी था लेकिन असंभव नहीं इस खबर की सच्चाई जान्ने का प्रसास किया तो पता चला कि सब्जी मंडी में कैसे घुसा कोरोना! विश्वस्त सूत्रों के अनुसार मंडी के एक मुंशी के बेटे की तबियत अचानक से खराब होती है जिसके बाद उसे इलाके के हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया जिसके बाद पता चलता है कि बच्चे के पेट में दिक्कत है और बच्चा कुछ दिनों में ठीक भी हो जाता है और घर पर भी आ जाता है जिसके बाद बेटे की दोबारा से तबियत खराब होती है वह दोबारा से हॉस्पिटल पहुँचता है एडमिट होने पर कोरोना टेस्ट करवाया जाता है रिपोर्ट पॉजिटिव  यानी कोरोना पॉजिटिव निकलता है सूत्रों की मानें तो बहुत हद तक बच्चे को संक्रमण हॉस्पिटल से ही लगा था जिसके बाद कुछ अल्पज्ञानियों ने शोर ये मचाया कि सब्जी मंडी के आढ़ती निकला कोरोना पॉजिटिव! जबकि ऐसा नहीं था बल्कि मुंशी जी… दिवंगत हो गए एक आढ़ती के पड़ोस वाली दूकान में मुंशी का कार्य करते थे जब इस बात का पता उक्त आढ़ती को लगा तो उन्होंने अपने समेत परिवार और दुकान के मुंशी का भी कोरोना टेस्ट करवाया जिसके बाद चौकाने वाले रिजल्ट सामने आये आस पड़ोस और परिवार समेत २० लोग कोरोना संक्रमण से पीड़ित पाए गए आपको बता दें की जिसमे एक व्यापारी की मौत भी हो चुकी है सूत्रों की बातों पर यकीन करें तो…  यह तो थी मंडी में कोरोना वायरस का संक्रमण कैसे फैला की कहानी!  विश्वस्त सूत्र बताते है कि कोरोना की आड़ में व्यापारियों को बदनाम करने का खेल शुरू हो गया जबकि मौजूदा स्थिति के अनुसार… सभी व्यापारियों की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है और सभी लोग अपने घर वापस भी लौट चुके हैं अब बात आती है कि आखिर कौन है वह जो इस पूरी मंडी पर कब्जा करना चाहता है मजेदार बात यह भी है इस मंडी के कब्जे को लेकर भ्रामक बातें भी फैलाई जा रही है मसलन मंडी में काम करने वाले सभी व्यापारियों को लेकर एक आम सी राय बन चुकी है और जिसकी वजह से करोड़ों रुपए का माल खाक होने की कगार पर है  आढ़त का सामान मंडी में खराब हो रहा है पहाड़ और मैदान दोनों ही क्षेत्रों के किसान भुखमरी के कगार पर हैं आढ़तियो की एडवांस पेमेंट किसानों के पास फंसी हुई है और किसान माल पर माल भेज रहे हैं वह माल मंडी में आकर स्टोरेज हो गया लेकिन एक कोरोना जैसा बदनुमा दाग व्यापारियों पर लग गया… एक चाल के तहत सभी व्यापारियों को उनके घर में कैद कर दिया गया.. और कुछ लोग इसका भरपूर फायदा लेकर किसानों से आधी कीमत पर माल खरीद रहे हैं और पूरे शहर में चौगुनी रेट पर माल की सप्लाई की जा रही है लेकिन ना जाने क्यों कोई भी आवाज बुलंद करने का नाम नहीं लेता है.. वहीं दूसरी तरफ व्यापारियों से घर पर रहने के लिए बात कही जा रही है जबकि सभी व्यापारी एकदम स्वस्थ है और वह अपना कोरोना टेस्ट कराकर वापिस आने की बात भी कह रहे हैं… लेकिन एहतियात के तौर पर उन्हें मना किया जा रहा है कुछ लोगों का यह मानना है कि यह व्यापारी आएंगे और संक्रमण बढ़ाएंगे सवाल सबसे बड़ा यही खड़ा होता है कि मौजूदा समय में काम करने वालों को क्या संक्रमण होने की संभावना नहीं है या वह बिल्कुल एकदम स्वस्थ है क्या उन लोगों का कोई कोरोना टेस्ट कराया गया है जो मौजूदा समय में पूरे शहर में सप्लाई के काम को अंजाम दे रहे हैं वही इसके के उलट व्यापारी अपना कोरोना टेस्ट करा कर वापस आने की बात कर रहे हैं तो उनके नाम पर भ्रामकता फैलाई जा रही है यह बेहद गंभीर विषय है कि आखिर कौन है वह जो करोना वॉरियर्स को कोरोना करियर के रूप में भ्रामकता फैलाने का काम कर रहा है बहरहाल यह जांच का विषय है इसकी जांच जरूर होनी चाहिए कि आखिर वह कौन है जो इस तरह के प्रपंच रच रहा है जिसकी वजह से आम जनता को सब्जी की चौगुनी कीमत चुकानी पड़ रही है…
फ़ाइल फोटो

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here