पहाडों में लचर स्वास्थ सेवा में सुधार करने के बजाय स्वास्थ सेवाओं को पीपीपी मोड के जरिये प्राईवेट हाथों में दिया जा रहा: प्रदीप टम्टा

0
22

रिपोर्ट-मुकेश बछेती

पौड़ी: उत्तराखण्ड से राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा आज पौड़ी पहुंचे, जहाँ कांग्रेसियों ने उनका जोरदार स्वागत किया । इस दौरान 2022 विधानसभा चुनाव पर भी प्रदीप टम्टा ने कांग्रेसियों के साथ मिलकर चर्चा की। जिसमें 2022 में सत्ता में आते ही गैरसैण को राज्य के स्थाई राजधानी बनाने का दावा किया गया।

प्रदीप टम्टा ने पूर्व सीएम हरीश रावत को वे 2022 का मुख्य चेहरा मानते है पर उनका कहना है कि हाईकमान को भी इस विषय पर विचार कर 2022 के लिये जल्द ही सीएम के चेहरे का ऐलान कर देना चाहिये। उत्तराखण्ड सरकार पर जुबानी हमला करते हुए राज्य सभा सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा कि पलायन को रोकने में नाकाम सरकार अब जनहित के मुद्दों को दरकिनार कर रही है।

प्रदीप टम्टा ने कहा कि पहाडों में लचर स्वास्थ सेवा में सुधार करने के बजाय स्वास्थ सेवाओं को पीपीपी मोड के जरिये प्राईवेट हाथों में दिया जा रहा है। जो जनता के साथ एक बडा खिलवाड है। उन्होंने कहा कि पीपीपी मोड का संचालन जिन जनपदों में अब तक हुआ है वहां भी सरकारी अस्पतालों ने प्राईवेट हाथों में जाते ही दम तोडा है ऐसे में बिना फीडबैक लिये पौड़ी जिले के अस्पताल को भी पीपीपी मोड में दिया गया है जिससे कई संविदा कर्मियों पर भी रोजगार का संकट गहरा गया है।

प्रदीप टम्टा ने कहा कि अल्मोडा और पौड़ी दो ऐसे जनपद जो अब तक पलायन का दंश झेल रहे हैं लेकिन सरकार ने इन जनपदों के हित में कार्य नहीं किये। इसके साथ ही राम मंदिर पर भी प्रदीप टम्टा ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सलाह दी कि जिस तरह से राममंदिर के लिये फंड दिया गया है उसी प्रकार से अयोध्या में मस्जीद के लिये भी फंड दिया जाये जिससे जनभावनोंओं में कोई भेद भाव न हो।