Nirbhaya case: निर्भया की मां ने देश की जनता से मांगा समर्थन, जारी किया मोबाइल नंबर, कहा ‘मिस कॉल दें’

0
31

LokJan Today:दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों (विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता, मुकेश सिंह और अक्षय सिंह ठाकुर) की फांसी के लिए डेथ वारंट जारी कर दिया है और चारों की फांसी की तैयारी भी चल रही है। डेथ वारंट के मुताबिक, आगामी 3 मार्च को सुबह 6 बजे तिहाड़ जेल में चारों को फांसी दी जानी है, लेकिन कानूनी पैंतरों में उलझने के चलते लगता नहीं कि 3 मार्च को चारों को फांसी हो पाएगी। इस बीच निर्भया की मां ने देश की जनता से अपील की है कि वे न्याय की इस मुहिम में उनके साथ आएं।

7834998998 नंबर दें मिस कॉल

निर्भया की मां ने जनता के नाम संदेश में लोगों से चारों दोषियों के लिए फांसी का समर्थन करने की अपील के साथ एक नंबर 7834998998 भी जारी किया है। देश की जनता के नाम संदेश में निर्भया की मां ने कहा है- ‘अगर आप मुझे इस मुद्दे पर समर्थन करते हैं तो इस मैसेज को आगे बढ़ाएं। इसी के साथ इस नंबर 7834998998’ पर मिस कॉल भी दे सकते हैं।

बता दें कि चारों दोषियों को निचली अदालत के बाद दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट फांसी की सजा सुना चुका है, लेकिन तकरीबन तीन साल बाद भी फांसी को अंजाम नहीं दिया जा सका है। वहीं, निर्भया के माता-पिता पिछले छह महीने से लगातार निचली अदालत, दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के चक्कर लगा रहे हैं। अब परेशान हो कर निर्भया की मां ने देश की जनता से समर्थन मांगा है। अपनी भावनात्मक अपील में निर्भया की मां ने इंसाफ की लड़ाई में लोगों से समर्थन मांगा है।

  • यहां पढ़िए मैसेज की अहम बातें
  • कल, मैं सर्वोच्च न्यायालय के सामने निर्भया के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लिए निवेदन करूंगा ताकि महिलाओं के खिलाफ अपराध को हतोत्साहित किया जाए।
  • अगर निर्भया न्याय पाने में नाकाम रही तो कोई और पीड़ित न्याय पाने में सक्षम नहीं होगा
  • हमें निर्भया के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लिए एकजुट होना चाहिए
  • मेरी रातों की नींद हराम है, लेकिन न्याय के लिए अपने संघर्ष को जारी रखूंगी।
  •   मानव अधिकार कार्यकर्ता केवल अपना व्यवसाय चला रहे हैं।
  • जो लोग मुझे इन दोषियों को क्षमा करना चाहते हैं, उन्हें सोचना चाहिए कि अगर उनके परिवार में भी ऐसा ही होता है तो क्या वे बर्दाश्त करेंगे।
  • हमें अपने अधिकारों के लिए लड़ना होगा, न मांगें
  • जो लोग मुझे दोषियों को क्षमा करने के लिए कहते हैं, मैं उनसे पूछना चाहती हूं कि क्या यह आपके बच्चे के साथ हुआ था, तो क्या आप दोषियों को माफ कर देंगे?
  • यदि देश में महिलाओं के अपने अधिकार हैं, तो हमारे अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए व्यवस्था बदलनी चाहिए

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here