डीजीपी के निर्देश पर एक सप्ताह का साइबर अपराधो में दक्ष बनाने को स्पेशल टास्क फोर्स की लैब में कार्यशाला प्रारम्भ

0
27

देहरादून: बढ़ते साईबर अपराध के दृष्टीगत उत्तराखण्ड राज्य के 18 पुलिस अधीक्षक (अंडर ट्रेनिंग) को साईबर अपराध के प्रति दक्ष बनाये जाने हेतु अशोक कुमार IPS, उत्तराखण्ड पुलिस महानिदेशक के निदेशानुसार एसटीएफ उत्तराखण्ड में एक सप्ताह का प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रारम्भ किया गया है ।

एसटीएफ, उत्तराखण्ड की साईबर लैब में सभी 18 प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षको को साईबर विशेषज्ञों द्वारा ऑनलाईन साईबर क्राईम के गुण सिखाये । साईबर विशेषज्ञ गुरुचरन सिंह, क्रेन्द्रीय गुप्तचर प्रशिक्षण इकाई चण्डीगढ़ द्वारा साईबर अपराध, सोशल मीडिया सम्बन्धित अपराधो की विवेचना एंव ऐसे अपराधो के अनावरण के विभिन्न ट्रिक्स एँव टिप्स एंव विवेचना के गुण सिखाये ।

साईबर विशेषज्ञ रक्षित टंडन द्वारा प्रशिक्षुओं को साईबर अपराध के मामलो में किसी साईबर अपराधी के डिजिटल साईबर फुटप्रिन्ट कैसे पहचानते है व कैसे उनका उनका विश्लेषण कर साईबर अपराधी का पता लगाते है । साईबर अपराधी द्वारा जनता का डेटा चोरी करने हेतु इस्तेमाल की जाने वाली नई नई तकनीको के बारे में बताया ।

प्रभारी एसटीएफ, उत्तराखण्ड द्वारा बताया गया कि साईबर क्राईम विषय पर प्रचलित 07 दिवसीय कार्यशाला में साईबर अपराध के विभिन्न क्षेत्रों में दक्ष अन्तराज्यीय साईबर विशेषज्ञों द्वारा ऑनलाईन व्याख्यान दिया जायेगा । पुलिस महानिदेशक के विजन के तहत ही प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षकों को साईबर अपराध का प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है । चूंकि, सभी प्रशिक्षु पुलिस उपाधीक्षकों द्वारा भविष्य में फील्ड में जाकर अपने अपने क्षेत्रों में पुलिस कार्यवाही का पर्यवेक्षण किया जायेगा, जिससे इस प्रशिक्षण से प्राप्त अनुभव से साईबर अपराधों ड्रग्स व आर्थिक मामलो में विशेष ध्यान केन्द्रित कर सकेंगे तथा पुलिस कार्यवाही में अपेक्षित सुधार हो सकेगा । उत्तराखण्ड राज्य की पुलिस को आधुनिक बनाने के लिये यह एक प्रभावी तथा सफल प्रयास साबित होगा । इसके अतिरिक्त एसटीएफ द्वारा ड्रग्स एंव आर्थिक अपराध के मामले में भी पुलिस कार्यवाही में सुधार व अपेक्षित गुणवत्ता लाये जाने हेतु एक विशेष पहल की जा रही है । सभी प्रशिक्षु प्रतिभागियों द्वारा पुलिस महानिदेशक की पहल का आभार व्यक्त करते हुये प्रशिक्षण कार्यक्रम की सराहना की गयी तथा बताया कि उन्हें साईबर क्राईम ड्रग्स एवं आर्थिक अपराध के मामलों में नई नई चीजें सीखने के मिली तथा कई बिन्दु को उनके लिये बिलकुल ही नई थी । यह प्रशिक्षण उनके लिये काफी लाभप्रद महसूस हो रहा है ।