जो अभिभावक फीस नहीं दे पा रहे हैं, वह अपने बच्चों का एडमिशन सरकारी स्कूलों में कराएं…!

0
17

रिपोर्ट: मुकेश बछेती

पौड़ी: भारतीय राष्ट्रीय युवा कांग्रेस पौड़ी के पदाधिकारियों द्वारा प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे द्वारा दिए गए बयान का कड़े शब्दों में निंदा कर विरोध किया है। “अभिभावक फीस नहीं दे पा रहे हैं”। वह अपने बच्चों का एडमिशन सरकारी स्कूलों में कराएं। जिला उपाध्यक्ष युवा कांग्रेस व पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष आशीष नेगी ने कहा कि युवा कांग्रेस ने कुछ दिन पहले ही इस वैश्विक महामारी को देखते हुए सरकार से 3 माह का बिजली का बिल, 3 माह पानी का बिल व 3 माह की छात्र-छात्राओं की फीस माफी के लिए मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा था लेकिन सरकार ने अभी तक इस पर कोई भी ध्यान नहीं दिया है।

आशीष नेगी ने कहा कि एक तरफ सरकार प्रतिवर्ष शिक्षा बजट में कटौती कर छात्रों के साथ खिलवाड़ करने का काम कर रही है। वहीं दूसरी ओर सूबे के शिक्षा मंत्री इस तरीके का बयान दे रहे हैं। जो की उन्हें सोभा नही देता। फीस अभिभावक पहले भी दे रहे थे, लेकिन सरकार से फीस माफी की मांग इस वैश्विक महामारी कोरोना के चलते की गई है। जब लोगों की आर्थिक पर प्रभाव पड़ा है, कई लोग बेरोजगार हो चुके हैं।

लोगों के पास खाने के लिए पैसे नहीं है। सरकार अपनी शिक्षा नीतियों में बदलाव न करके इस तरीके का बयान दे रही है। जबकि उन्हें अपने शिक्षा तंत्र में सुधार करने की आवश्यकता है और अभिभावक सरकारी स्कूलों में भी अपने बच्चों को पढ़ाएंगे। इसके लिए सरकार पहल तो करें। अपने सरकारी स्कूलों का आधुनिकीकरण तो करें सिर्फ बयान दे देना कहीं भी इसका इलाज नहीं है। युवा कांग्रेस पौड़ी द्वारा सरकार से मांग की गयी कि शिक्षा बजट में कटौती न की जाए और 3 माह की छात्र-छात्राओं की फीस माफ की जाए। जिससे इस वैश्विक महामारी में अभिभावकों के साथ-साथ आमजन को राहत मिल सके।

विरोध करने वालों में पूर्व विश्वविद्यालय प्रतिनिधि मोहित सिंह, छात्रसंघ सचिव गोपाल नेगी, पूर्व छात्रसंघ आकाश रावत, पूर्व कोषाध्यक्ष अंकित सुंद्रियाल, पूर्व छात्रसंघ सहसचिव शिवानी भंडारी, छात्र नेता दीपक नौटियाल, संजना गुजराल, निशा ममगाईं,कामिनी आदि शामिल थे।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here