एसओजी ने 5000 का इनामी दबोचा, हत्या के मामले में फरार चल रहा था आरोपी

0
99

देहरादून: जब से उत्तराखंड के डीजीपी की कमान अशोक कुमार के हाथ में आई है तब से लगातार पुलिस ताबड़तोड़ अपराधियों को पकड़ रही है। जो भी फरार चल रहे अपराधी थे वह अब पुलिस के शिकंजे में है।

वही पुलिस महानिदेशक उत्तराखंड के द्वारा फरार चल रहे अपराधियों की शीघ्र गिरफ्तारी के निर्देश दिए गए थे जिस के संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून के द्वारा सभी थाना चौकी प्रभारियों को उनके थाना क्षेत्र से फरार चल रहे अभियुक्तों की गिरफ्तारी निर्देश करते हुए टीमों का गठन किया था। उसके बाद मसूरी थाना में दर्ज मुकदमा संख्या 25 बटा 17 धारा 302 201 376 डी 326a बटा 34 भारतीय दंड विधि तथा 3 बटा दो एएचसी एसटी एक्ट जिसमें 9 अभियुक्तों द्वारा द्वारा वर्ष 2017 में एक महिला के साथ गैंगरेप कर उसकी हत्या करने की घटना को अंजाम दिया था।

इन उक्त अभियोग में पूर्व में पुलिस टीम द्वारा पांच अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था तथा चार अभियुक्त नंबर 1 नंदू पंडित नंबर दो ढंगा मंडल नंबर 3 जयकरण लगातार फरार चल रहे थे, जिस पर पुलिस महानिदेशक कर्मी द्वारा प्रत्येक अभियुक्त पर पांच ₹5000 इनाम की घोषणा की थी।

इन अभियुक्तों की गिरफ्तारी पुलिस तथा एसओजी की संयुक्त टीम द्वारा लगातार सुराग रस्सी पारसी की जा रही थी तथा अभियुक्तों के उत्तर प्रदेश तथा बिहार में छिपने की संभावित स्थलों पर लगातार दबिश दी जा रही थी। इसी बीच एसओजी प्रभारी के जरिए मुखबिर सूचना प्राप्त हुई कि उक्त अभियुक्त में से एक अभियुक्त नंदू पंजाब में पटियाला क्षेत्र में छिपकर रह रहा है जिस पर उच्चाधिकारियों को अवगत कराते हुए क्षेत्राधिकारी मसूरी के निर्देशन में पुलिस एसओजी की टीम को इनामी अपराधी की गिरफ्तारी हेतु पंजाब रवाना किया गया।

पुलिस टीम द्वारा पंजाब के स्थानीय सूत्रों के माध्यम से अभियुक्त की गतिविधियों पर सतर्क दृष्टि रखी गई। इसी बीच पुलिस को पुलिस टीम को मुखबिर की जानकारी प्राप्त हुई अभियुक्त सनौली राजपुरा में अपने किसी परिचित से मिलने वाला है, जिस पर पुलिस टीम द्वारा अभियुक्त को 10 जनवरी 2021 को सोनाली राजपुरा पंजाब से गिरफ्तार किया गया।