गायब शिक्षकों पर की गई कड़ी कार्रवाई !

0
41
Your browser does not support the video tag.

देहरादून : सनातनी परंपरा में गुरु को ईश्वर से भी ऊपर का दर्जा दिया गया है क्योंकि गुरु ही वो होतनहैंजो बच्चों का भविष्य मजबूत करता है और देश को अच्छा भविष्य देता है। लेकिन क्या हो जब गुरु ही अपने कर्तव्य को न समझे। ऐसा ही एक मामला आया है त्यूणी चकराता क्षेत्र से।

त्यूणी चकराता क्षेत्र के विभिन्न प्राथमिक स्कूलों का यह मामला है। जहां 23 और 25 नवम्बर को बीईओ के निरीक्षण में बिना सूचना के शिक्षक नदारद मिले थे।राजकीय उच्चतर माध्यमिक। विद्यालय गबेला के प्रधानाचार्य का भी एक दिन का वेतन रोका गया,

आपको बता दें की मुख्य शिक्षा अधिकारी डॉ आनन्द भारद्वाज ने 26 नवंबर को विद्यालयन का औचक निरीक्षण किया था। निरीक्षण में पता चला कि प्रधानाचार्य बिना छुट्टी लिए देहरादून चली गयी। डॉ भारद्वाज ने स्पष्टीकरण भी मांगा है।

मूल आदेश

एतद्द्वारा आज दिनांक 26 नवम्बर 2022 को मेरें द्वारा रा०क०इ०का० दुगडडा विकासखण्ड दुगडडा के औचक निरीक्षण के दौरान संज्ञान में आया कि विद्यालय की प्रधानाचार्या श्रीमती अनीता रावत, बिना मुख्यालय त्याग की अनुमति के देहरादून चली गयी है एवं खण्ड शिक्षा अधिकारी दुगडडा द्वारा भी अवगत कराया गया कि श्रीमती अनीता रावत द्वारा अवकाश हेतु उनसे अनुमति नहीं ली गयी है।

 

अतः उक्त के क्रम में श्रीमती अनीता रावत, प्रधानाचार्या रा०क०इ०का० दुगडडा विकासखण्ड दुगडडा को कारण बताओ नोटिस निर्गत कर उनके माह नवम्बर 2022 के वेतन आहरण पर अग्रिम आदेशों तक रोक लगायी जाती है । सन्तोषजनक स्पष्टीकरण उपलब्ध होने पर ही उनका वेतन आहरित किया जायेगा।

(डा० आनन्द भारद्वाज) मुख्य शिक्षा अधिकारी

 

पौड़ी गढ़वाल