भारतीय सैनिकों ने कारगिल युद्ध में जिस प्रकार की विपरीत परिस्थितियों में वीरता का परिचय देते हुए घुसपैठियों को सीमा पार खदेड़ा, उससे पूरे विश्व ने भारतीय सेना का लोहा माना

0
17

रिपोर्ट: सुभाष राणा

देहरादून: कारगिल विजय दिवस (शौर्य दिवस) पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गांधी पार्क में शहीद स्मारक पर कारगिल शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की।

मुख्यमंत्री ने भारतीय सेना के अदम्य साहस व शौर्य को नमन करते हुए कहा कि उत्तराखण्ड में सैनिकों की वीरता व बलिदान की लम्बी परम्परा रही है। कारगिल युद्ध में बड़ी संख्या में उत्तराखण्ड के सपूतों ने देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहूति दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय सैनिकों ने कारगिल युद्ध में जिस प्रकार की विपरीत परिस्थितियों में वीरता का परिचय देते हुए घुसपैठियों को सीमा पार खदेड़ा, उससे पूरे विश्व ने भारतीय सेना का लोहा माना। कारगिल युद्ध में देश की सीमाओं की रक्षा के लिए वीर सैनिकों के बलिदान को राष्ट्र हमेशा याद रखेगा।राज्य सरकार पूर्व सैनिकों, शहीद सैनिकों के आश्रितों के कल्याण के प्रति वचनबद्ध है।

वही दूसरी तरफ विजय दिवस के अवसर पर युद्ध स्मारक नई टिहरी में जिला प्रशासन द्वारा विजय दिवस के अवसर पर शहीद हुए जवानों की स्मृति में विजय दिवस कार्यक्रम आयोजित कर शहीदों को पुष्प चक्र अर्पित किए गए। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में जिलाधिकारी टिहरी गढ़वाल द्वारा प्रतिभाग किया गया कारगिल शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की गई।

इस अवसर पर मंगेश घिल्डियाल जिलाधिकारी ने कहा कि कोरोना संक्रमण को देखते हुए विजय दिवस सादगी से मनाया गया है। टिहरी विधायक डॉक्टर धन सिंह नेगी ने कहा कि कारगिल दिवस को सादगी से मनाया गया और मेरे द्वारा शहीद स्मारक का निर्माण भी करवाया गया है। जब मैं विधायक बना था तो मैंने टिहरी की जनता से वादा किया था शहीद स्मारक का निर्माण किया जाएगा और मेरे द्वारा बोराड़ी में इसका निर्माण किया गया है अब वह बनकर तैयार हो गया है।

 

 

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here