कुछ इस तरह कोरोना महामारी का फायदा उठा रहे झोलाछाप डॉक्टर…

0
11

रिपोर्ट: सुशील कुमार झा

लंढोरा: जहां एक ओर देश में कोरोना का कहर है, वहीं दूसरी ओर झोलाछाप डॉक्टर इस महामारी का फायदा उठा रहे हैं। कथित रूप से स्वास्थ्य विभाग के संरक्षण में झोलाछाप डॉक्टर बेखौफ होकर अवैध नर्सिंग होम का संचालन कर रहे है। स्वस्थ्य विभाग इन झोलाछाप डॉक्टरों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई करने को तैयार नहीं है।

दुनिया भर में कोरोना को लेकर हर कोई चिंतित है। लंढोरा क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग की अनदेखी और भारी लापरवाही के चलते क्षेत्र के कोने कोने में  झोलाछाप डॉक्टरों ने अपना जाल बिछा रखा है और वे बिना किसी डर के बेखौफ होकर अपने अवैध दवाखाने का संचालन कर रहे है। इन झोलाछाप डॉक्टरों के हौसले इतने बुलंद हैं कि वह बिना किसी खौफ के निजी और किराए के मकान में क्लिनिक के नाम पर नर्सिंग होम संचालित कर रहे। गरीब मरीजों को भर्ती कर उनका इलाज किया जा रहा है। इन गरीब लोगों से ग्लूकोज की बोतल व विटामिन की गोलियां और दर्द निवारक गोलियां देकर हजारों रूपए वसूले जा रहे हैं। ये कथित क्लिनिक नर्सिंग होम के रूप में संचालित है।

यही नहीं, लगभग सभी क्लीनिकों पर इन झोलाछाप डॉक्टरों ने बड़ी मात्रा में बगैर किसी ड्रग्स लाइसेंस के बड़ी मात्रा में एलोपैथिक दवाइयों का भंडारण कर रखा है। इनमें कई प्रतिबधित दवाइयां भी देखी गई है। ऐसे में सवाल उठता है कि इन झोलाछाप डॉक्टरों को नर्सिंग होम संचालित करने की अनुमति किसने दी और ड्रग और कास्मेटिक एक्ट 1940 और आईपीसी की धारा 420 के तहत कार्रवाई क्यों नही की जा रही है। इस मामले में सीएमओ हरिद्वार सरोज नैथानी अनेक बार अमले के साथ ऐसे चिकित्सकों पर कार्रवाई भी कर चुकी है।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here