लोगों को बीमा पॉलिसी व अन्य उपहारों का लालच देकर उनसे ठगी करने वाले तीन शातिर गिरफ्तार

0
11

देहरादून: 12 अगस्त को ऊमा कुमार पत्नी स्व.चन्द्र प्रकाश कुमार (निवासी: 19/39 ई.सी. रोड थाना डालनवाला) देहरादून द्वारा थाना डालनवाला आकर लिखित तहरीर दी कि साल 2018 में उनके पति की मृत्यु हो गयी थी।

अगस्त 2019 में उनके मोबाइल नम्बर पर एक अज्ञात मोबाइल नम्बर धारक व्यक्ति, जिसके द्वारा अपना नाम कृष्णानन्द मण्डल बताया गया, के द्वारा फोन कर खुद को फण्ड क्लेयरेन्स डिपार्टमेन्ट दिल्ली का कर्मचारी बताते हुए उनके पति के नाम पर रू0 64,90000 (चौसठ लाख नब्बे हजार रूपये) की बीमा पालिसी होने की जानकारी दी गयी। उसके पश्चात अलग-अलग नंबरों से अन्य व्यक्तियों द्वारा भी पुलिस इस प्रक्रिया के संबंध में उनसे संपर्क किया गया तथा उक्त पॉलिसी की धनराशि को प्राप्त करने हेतु विधिक प्रक्रिया को पूर्ण करने की एवज में अलग-अलग खातों में वादिनी से लगभग 36 लाख रूपये ले लिये गये।

लिखित तहरीर के आधार पर थाना डालनवाला में मु.अ.सं.: 150/20 धारा: 420, 406, 120 बी भादवि का अभियोग पंजीकृत किया गया। अभियोग के अनावरण तथा अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक देहरादून द्वारा पुलिस अधीक्षक नगर के निर्देशन तथा क्षेत्राधिकारी डालनवाला के पर्यवेक्षण में साइबर सेल तथा थाना डालनवाला की संयुक्त टीम गठित की गयी। गठित टीम द्वारा अभियुक्तों के मोबाइल नम्बरों तथा जिन खातों में वादिनी द्वारा पैसा जमा कराया गया था, उनके सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की गयी।

मोबाइल नम्बरों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त करने पर उक्त सभी नम्बर फर्जी आईडी से लिये जाना ज्ञात हुआ, परन्तु उक्त नम्बरों के विश्लेषण से एक संदिग्ध नम्बर, जो अंकुर पाठक उर्फ बबलू पुत्र महेश पाठक निवासी: ग्रा. कुमरपुर, थाना पहासु जिला बुलन्दशहर उत्तरप्रदेश के नाम पर होना प्रकाश में आया तथा जिन खातों में वादिनी द्वारा पैसा जमा किया गया था।

उक्त खाते बुलन्दशहर के उसी क्षेत्र के होने पाये गये। जिस पर तत्काल पुलिस टीम को जनपद बुलन्दशहर रवाना किया गया। टीम द्वारा बुलन्दशहर पहुंचकर उक्त खातों के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की गयी तो उनमें से दो बैंक खाते प्रशान्त शर्मा तथा हरवीर सिंह के नाम पर होने पाये गये। जिनका पता तस्दीक करने पर वह सही पाये गये। जिस पर पुलिस टीम द्वारा प्रकाश में आये व्यक्तियों के सम्बन्ध में गोपनीय रूप से जानकारी प्राप्त करते हुए स्थानीय मुखबिर तंत्र को सक्रिय किया गया। स्थानीय मुखबिर तंत्र के माध्यम से पुलिस टीम को जानकारी प्राप्त हुई कि अंकुर पाठक नाम का व्यक्ति अपने अन्य साथियो प्रशान्त शर्मा व हरवीर सिंह के साथ मिलकर इस तरह की घटनाओं को अंजाम देता है तथा उनके इस काम में कुछ अन्य लोग भी इनके साथ शामिल हैं।

प्राप्त साक्ष्यों व मुखबिर की सूचना के आधार पर पुलिस टीम द्वारा 17 अक्टूबर की साँय अभिुयक्त हरवीर सिंह तथा प्रशान्त शर्मा को खुर्जा बुलन्दशहर से तथा इनसे प्राप्त सूचना के आधार पर रात्रि में अभियुक्त अंकुर पाठक उर्फ बबलू को नोएडा से गिरफ्तार किया गया। अभियुक्तों के कब्जे से ठगी गयी धनराशि, मोबाइल फोन व अन्य दस्तावेज प्राप्त हुए।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here