दर्दनाक हादसा: अंगीठी की आग से जिंदा जले दो मासूम, छत भी काटी, पर नहीं बची जान

0
41

राजधानी लखनऊ के कृष्णा नगर थाना क्षेत्र की विराट नगर कॉलोनी में शनिवार सुबह एक घर में अंगीठी तापते समय भीषण आग लग गई जिसमें दो मासूम सहित पांच लोग बुरी तरह झुलस गए। मासूमों को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जहां दोनों की मौत हो गई।

मृतकों में चार साल का रितिक और एक साल का शांतनु है। बताया जा रहा है कि दोनों बच्चों की मौत दम घुटने और झुलसने से हुई है। दोनों के शवों को मर्चुरी भेज दिया गया है।

घर से धुंआ और तेज लपटें निकलती देख पड़ोसियों ने पुलिस व फायर कंट्रोल रूम को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस और दमकल कर्मियों ने आग में फंसे पांच लोगों को बाहर निकाला जिसमें दो मासूमों को गंभीर हालत में सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उनकी मौत हो गई। वहीं, दमकल की 5 गाड़ियों ने ढाई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद काबू पाया। पुलिस के मुताबिक, आग लगने का कारण अब पता नहीं चल सका है।

प्रभारी निरीक्षक कृष्णानगर महेश दुबे के मुताबिक, विराट नगर में शांति अकेले रहती हैं। उन्होंने अपने मकान का एक हिस्सा सनी को किराए पर दे रखा है। सनी के परिवार में उसकी पत्नी खुशबू दो बेटे रितिक और शांतनु है। शनिवार सुबह करीब 8:30 बजे शांति के घर से अचानक धुंआ और तेज लपटें निकलने लगी जिसे देख कर पड़ोसियों ने पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने आसपास के लोगों को दूर किया अग्निशमन की टीम भी मौके पर पहुंच गई।

सूचना पर पहुंची अग्निशमन की टीम ने बचाव कार्य शुरू कर घर में फंसे लोगों को बाहर निकालने के लिए छत और दीवार काटकर अंदर पहुंचे और पांचों लोगों को बाहर निकाला जिनमें रितिक और शांतनु की हालत गंभीर थी। आनन-फानन में दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। उधर, आग बुझाने का काम शुरू किया गया। कमरे में धुआं इतना भर गया था कि अग्निशमन कर्मियों को राहत कार्य करने में दिक्कत हो रही थी। अग्निशमन कर्मी ऑक्सीजन का सिलेंडर लेकर छत के रास्ते घर में घुसे थे।

पुलिस के मुताबिक, मकान के एक हिस्से में शांति रहती हैं। वही दूसरे हिस्से में शनि का परिवार बेसमेंट बनाकर शांति ने एक टेंट हाउस को किराए पर दे रखा है। ज्यादा ठंड होने के कारण आज सुबह सभी आग ताप रहे थे। आग की चिंगारी छत के रास्ते प्लास्टिक के सामान पर जा गिरी जिससे आग लग गई। बेसमेंट में रखें टेंट हाउस के सामान जलने लगे पूरे कमरे में धुंआ भर गया जिससे लोगों को सांस लेने में तकलीफ होने लगी।