उत्तराखंड आपदा: 7 घंटे तक सुरंग में लोहे की रॉड से लटके रहे राकेश, नाखून पड़ गए नीले…!

0
49

चमोली: उत्तराखंड के चमोली में रविवार को ग्लेशियर टूटने से आई तबाही के बाद राहत एवं बचाव कार्य लगातार जारी है। ITBP और रेस्क्यू टीम ने रविवार शाम को ऐसे 12 लोगों को NTPC की सुरंग से बाहर निकाला था पानी के सैलाब के बाद सुरक्षित बाहर निकले राकेश ने जो अपनी आपबीती सुनाई उसे सुन रोंगेटे खड़े हो गए।

27 साल के राकेश भट्ट जोशीमठ में बाबा बदरी विशाल के मंदिर से कुछ ही दूरी पर रहते हैं। हादसे के दिन तपोवन में वे सुरंग में काम कर रहे थे, तभी प्रलय आया और सुरंग में मिट्टी और मलबे का ढेर लग गया राकेश ने बताया कि अचानक आए पानी के सैलाब को देख वो सहम गए उन्हें कुछ समझ में ही नहीं आया और झटके में सुरंग में कीचड़ और पानी भर गया और अंधेरा छा गया

राकेश ने बताया कि पानी औऱ कीचड़ का सैलाब जैसे ही सुरंग में घुसा तो वो और बाकी मजदूर लोहे की रॉड के सहारे लटक गए वो तब तक राकेश ने बताया कि वो और उनके साथी 6 से 7 घंटे तक सुरंग में लोहे की रॉड से लटके रहे। जिंदगी और मौत के बीच जंग लड़ते रहे 7 घंटे तक रोड़ के सहारे लटके रहने से हाथ सुन्न पड़ गए नाखून नीले पड़ गए थे। शरीर सुन्न हो गया था। उसे लगा था कि वो अब नहीं बचेगा।

राकेश ने बताया कि इस बीच एक मजदूर ने किसी तरह अपना मोबाइल देखा तो उसमे नेटवर्क था। उनको जीने की उम्मीद दिखी। उसने तुरंत बाहर अधिकारियों को फोन किया जिसके अंडर वो काम कर रहे थे। सुरंग से मलबा हटाने का काम शुरु हुआ। जवानों के देख मजदूरों की जान में जान आई। पानी के सैलाब के बाद सुरक्षित बाहर निकले राकेश ने जो अपनी आपबीती सुनाई उसे सुन उनकी मां और पत्नी भी रोने लगी और खुद भी उन भयानक पलों को याद कर राकेश भी रो पड़े।