खटारा हो चुका है उत्तराखंड सरकार का उड़न खटोला अब बदलने की तैयारी

0
430
Your browser does not support the video tag.

उत्तराखंड सरकार का उड़न खटोला एकदम खटारा हो चुका है टेक्निकल एक्सपर्ट के अनुसार इस मॉडल के  हेलीकॉप्टर के कलपुर्जे आउटडेटेड हो चुके हैं इसलिए  सरकार नए हेलीकॉप्टर लेने की तैयारी कर रही है नए हेलीकॉप्टर की प्रक्रिया के लिए काफी लंबा वक्त लग जाता है इसलिए तब तक मुख्यमंत्री के लिए लीज पर हेलीकॉप्टर लेने की तैयारी चल रही है

लीज पर हेलीकॉप्टर लेने की तैयारी के तहत हाल ही में इसके लिए टेंडर आमंत्रित किए गए थे, लेकिन शर्तों को देखते हुए कोई कंपनी नहीं आई। अब शर्तों में कुछ ढील देकर दोबारा निविदा आमंत्रित की जा रही है। उत्तराखंड नागरिक उड्डयन विकास प्राधिकरण (यूकाडा) के आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक, राज्य सरकार का हेलीकॉप्टर इतना पुराना हो चुका है, अब उसमें तकनीकी सुधार की गुंजाइश भी नहीं बची। उसकी जगह अब नया हेलीकॉप्टर लेना ही विकल्प है।

सरकार पुराने हेलीकॉप्टर को जल्द हटाना चाहती है। नया हेलीकॉप्टर खरीदने की प्रक्रिया लंबी है। जानकारों का मानना है कि नया हेलीकॉप्टर खरीदने में दो से तीन वर्ष लग जाते हैं क्योंकि उसका मांग के अनुसार, निर्माण किया जाता है। तकनीशियनों और पायलटों का प्रशिक्षण भी इसमें शामिल होता है। इसलिए सरकार नया हेलीकॉप्टर खरीदने तक लीज पर हेलीकॉप्टर लेना चाहती है।

इसके लिए 21 जून को निविदा खुली थी लेकिन किसी कंपनी ने भाग नहीं लिया। पिछले दिनों मुख्यमंत्री धामी ने नए हेलीकॉप्टर खरीद को लेकर बैठक की थी। इस संबंध में उनका कहना था कि नया हेलीकॉप्टर खरीदने की प्रक्रिया के लिए एक समिति बनाई जाएगी और इसमें किफायत का पूरा ख्याल रखा जाएगा।

उत्तराखंड सरकार का हेलीकॉप्टर करीब 20 साल पुराना हो चुका है। आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि इस तकनीक के हेलीकॉप्टर बनाए जाने भी बंद हो गए हैं। इसलिए सरकार चाहकर भी अपने हेलीकॉप्टर का अपग्रेडेशन नहीं करा सकती है।

लीज पर हेलीकॉप्टर लेने के लिए सरकार ने टेंडर किया था लेकिन किसी कंपनी ने निविदा नहीं दी। अब सरकार शर्तों में ढील देकर एक बार फिर टेंडर जारी कर रही है ताकि ज्यादा कंपनियां आएं।