कांग्रेस को मिला मोदी चालीसा हथियार, कांग्रेसी भुनाएंगे चालीसा को

0
6

संवाददाता- मुकेश बछेती

पौड़ी| मोदी चालीसा विमोचन के बाद से ही लगातार प्रदेश में विवादों में रही है,इसका विमोचन होने के बाद ही कांग्रेस पार्टी ने मोदी चालीसा का विरोध करना शुरू कर दिया था |कांग्रेस ने आरोप लगाया था कि भगवान की तर्ज पर मोदी चालीसा का विमोचन करना अनावश्यक है, और इसे कहीं न कहीं लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत पहुंचेगी ।

गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत ने मोदी चालीसा में कहा कि यह किसी व्यक्ति की अपनी व्यक्तिगत राय है कि वह मोदी को भगवान की तर्ज पर पूजते हैं और उसी की तर्ज पर उन्होंने मोदी चालीसा लिखी। इसमें किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए |उन्होंने बताया कि जिस प्रकार से पूरा विश्व मोदी जी का अनुसरण करके कोरोना संक्रमण को हराने के लिए तत्पर है, वैसे ही इस व्यक्ति ने उनके लिए मोदी चालीसा का लिखान किया है,|इसमें किसी भी व्यक्ति को आपत्ति नहीं होनी चाहिए। क्योंकि हर किसी व्यक्ति को अपनी बात रखने का अधिकार संविधान ने दिया है| उन्होंने साफ किया कि मोदी चालीसा से भाजपा पार्टी का कोई भी लेना देना नहीं है |यह केवल उस व्यक्ति की अपनी राय है मगर तीरथ सिंह रावत ही भूल गए कि जब मोदी चालीसा का विमोचन हुआ था उस समय प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री घन सिंह रावत उस समय उपलब्ध थे और उन्होंने ही मोदी चालीसा का विमोचन भी किया था |इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि भाजपा कहीं ना कहीं भगवान के रूप में मोदी जी को भुनाना चाहती है,तो वही विपक्ष को बैठे बिठाय चालीसा के रूप एक धारदार हथियार मिल गया है। जिसको विपक्ष भुनाने में कोई कसर नही छोड़ना चाहती|

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here